ISSN 2277 260X   

 

International Journal of

Higher Education and Research


 

 

हे वृंदावन! हे राधा रानी! हे कृष्ण मुरारी! हे जनता-जनार्दन! - अवनीश सिंह चौहान

temple-at-ramanreti-1आज एक बार फिर वृंदावन-मथुरा में चुनाव संपन्न हो गए। फिर कोई नेता संसद में पहुंचेगा ही। वह वृंदावन लौटकर आएगा भी कि नहीं, कहना मुश्किल; लौटकर आया भी तो वृंदावन के विकास के लिए कुछ काम करेगा भी कि नहीं, कहना मुश्किल; वृंदावन की दुर्दशा देखकर द्रवित होगा भी कि नहीं, कहना मुश्किल!
 
बदबदाती-बदहाल-बन्द नालियाँ, गन्दे नालों का यमुना में अनवरत गिरना, दम तोड़ती यमुना मैया, अधूरा-अव्यवस्थित परिक्रमा मार्ग, टूटी-फूटी सड़कें, बुजुर्गों एवं विधवाओं की दुर्दशा, आवारा जानवरों का बेलगाम घूमना, पार्किंग की समस्या, बंदरों की मनमानी, पेड़-पौधों का सूखना-कटना जैसी कई समस्याएँ वृंदावन में गले की फांस बनी हुई हैं। क्या कतिपय समाज सुधारक, सामाजिक- सांस्कृतिक संस्थाएँ  और विख्यात राजनेता इस ओर भी कभी ध्यान दे पाएंगे?  
643 Views
Comments
()
Add new commentAdd new reply
I agree that my information may be stored and processed.*
Cancel
Send reply
Send comment
Load more